Loading...
Image
Image
View Back Cover

भारतीय प्रशासन

विकास एवं पद्धति

  • बिद्युत चक्रवर्ती - प्रोफेसर, राजनीति विज्ञान विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय
  • प्रकाश चंद - सहायक प्रोफ़ेसर, राजनीति विज्ञान विभाग, दयाल सिंह (ई) कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय।

यह पुस्तक सैद्धांतिक और व्यावहारिक पहलुओं के संदर्भ आधारित विश्लेषण के माध्यम से भारतीय प्रशासन के विकास से पाठकों का परिचय कराती है। यह स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से लोक प्रशासन की संवृद्धि और विकास के समीक्षात्मक विश्लेषण के माध्यम से इस क्षेत्र में आ रहे नए मुद्दों और चुनौतियों को संबोधित करती है। भारतीय प्रशासनिक प्रणाली के सिर्फ संस्थागत गुणों पर केंद्रित होने के बजाय यह पुस्तक ऐतिहासिक दृष्टिकोण से प्रमुख मुद्दों को प्रकाश में लाती है। प्रमुख विशेषताएं • पुस्तक भारतीय प्रशासनिक प्रणाली को प्रभावित करने वाली नई चुनौतियों और आने वाले मुद्दों पर विस्तृत अंतर्दृष्टि प्रदान करती है • भारतीय विश्वविद्यालयों और राज्य व केंद्रीय सेवाओं से संबंधित परीक्षार्थियों के लिए महत्वपूर्ण अध्ययन

  • प्रस्तावना
  • परिचय
  • भारतीय प्रशासन का विकास
  • भारतीय प्रशासन का दार्शनिक और संवैधानिक ढांचा
  • केंद्रीय प्रशासन की संरचना
  • राज्य प्रशासन
  • जिला प्रशासन
  • भारत में स्थानीय शासन: ग्रामीण और शहरी
  • भारत में सिविल सेवाएं
  • भारत में प्रशासनिक सुधार
  • भारत में लोक नीति
  • भारत में नियोजन और आर्थिक विकास
  • भारत में वित्तीय प्रबंधन
  • भारत में नागरिक और प्रशासन
  • भारत में समाज कल्याण प्रशासन
  • भारत में पर्यावरण प्रशासन
  • भारतीय प्रशासन में प्रमुख मुद्दे
  • भाग I अवधारणात्मक मुद्दे
  • भाग II अनुभवजन्य मुद्दे
  • निष्कर्ष
बिद्युत चक्रवर्ती

बिद्युत चक्रवर्ती दिल्ली विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग में प्रोफ़ेसर हैं। वे सामाजिक विज्ञान संकाय के डीन और दिल्ली विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग के प्रमुख भी रहे हैं। उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पीएचडी अर्जित की है और वे तीन दशकों से अधिक समय से शिक्षण और शोध से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कुछ सर्वाधिक प्रतिष्ठित शैक्षिक संस् ... अधिक पढ़ें

प्रकाश चंद

प्रकाश चंद दिल्ली विश्वविद्यालय, भारत के दयाल सिंह (ई) कॉलेज में राजनीति विज्ञान के सहायक प्रोफ़ेसर हैं। उन्हें आईसीएसएसआर द्वारा डॉक्टरेट फैलोशिप और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा पोस्टडॉक्टोरल रिसर्च अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। डॉ चंद का 14 साल का समृद्ध शिक्षण अनुभव है और उनके शोध प्रपत्र Indian Social Science Review, Gandhi Marg, ... अधिक पढ़ें

Also available in:

PURCHASING OPTIONS

For shipping anywhere outside India
write to customerservicebooks@sagepub.in