Loading...
Image
Image
View Back Cover

भारतीय युवा और चुनावी राजनीति

उभरती हुई भागीदारी

  • संजय कुमार - निदेशक, सेंटर फ़ॉर द स्टडी ऑफ़ डेवलपिंग सोसाइटीज़ (सीएसडीएस), नई दिल्ली

भारतीय युवा और चुनावी राजनीति, देश में भारतीय युवावर्ग और चुनावी राजनीति के बीच महत्त्वपूर्ण संबंध का अध्ययन करती है। पुस्तक कई प्रासंगिक सवालों के जवाब देती है: क्या युवा मतदाताओं के लिए, एक युवा प्रत्याशी बहुत मायने रखता है? यदि युवा प्रत्याशी चुनाव में खड़े हों, तो क्या युवावर्ग अधिक उत्साहपूर्वक वोट देते हैं? प्रचलित धारणाओं के विपरीत, भारतीय युवावर्ग में चुनावी राजनीति के प्रति रुचि बढ़ी है। लेकिन जब मतदान की बारी आती है, तो इनकी भागीदारी बहुत कम होती है।

पुस्तक, राजनीतिक मुद्दों को लेकर युवाओं में जागरूकता के स्तर पर दृष्टि डालती है और चुनावी राजनीति में युवाओं की अभिरुचि और उनकी भागीदारी का विश्लेषण करती है। यह इस ओर भी इशारा करती है कि भारतीय युवाओं का एक बड़ा प्रतिशत, राजनीति को अपने करियर के रूप में चुनने का इच्छुक होगा। तथापि लिंग, अवस्थिति और इसी तरह के विभिन्न सामाजिक घटकों के साथ-साथ युवा अभिरुचि और चुनावी भागीदारी के स्तर में अंतर है।

  • प्रस्तावना
  • परिचय
  • राजनीतिक मुद्दों पर जागरूकता विभा अत्री
  • राजनीति और राजनीतिक भागीदारी में रुचि किंजल संपत और ज्योति मिश्रा
  • मतदान का स्वरूप संजय कुमार
  • युवा उम्मी दवार और युवा मतदाता ज्योति मिश्रा
  • चुनावी सुधार के मुद्दे श्रेयस सरदेसाई
  • एक करियर के रूप में राजनीति: धारणा और पसंद संजय कुमार
  • राजनीति में युवा: 2012 के बाद हुए बदलावों की पड़ताल अनन्या सिंह
  • परिशिष्ट 1
  • परिशिष्ट 2
  • परिशिष्ट 3
संजय कुमार

संजय कुमार प्रोफ़ेसर हैं तथा वर्तमान में सेंटर फ़ॉर द स्टडी ऑफ़ डेवलपिंग सोसायटीज़ (सीएसडीएस) के निदेशक हैं। वे सीएसडीएस के अनुसंधान कार्यक्रम, लोकनीति के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं तथा वर्तमान में इसके सह-नि देशक हैं। उनके शोध का प्रमुख क्षेत्र चुनाव संबंधी राजनीति है, हालांकि वे भारतीय युवा, दक्षिण एशिया में लोकतंत्र की स्थिति, भारतीय किसा ... अधिक पढ़ें

Also available in:

PURCHASING OPTIONS

ISBN: 9789353282257

₹ 395.00

Pre-order this book now:
For shipping anywhere outside India
write to customerservicebooks@sagepub.in