Loading...
Image
Image
View Back Cover

पर्यावरण अर्थशास्त्र

सिद्धान्त एवं अनुप्रयोग

  • कटार सिंह - पूर्व निदेशक, ग्रामीण प्रबंधन संस्थान, आनंद (आईआरएमए), गुजरात
  • अनिल शिशोदिया - इंफ़ॉर्मेशन एंड रिफ़रेंस सर्विस डिपार्टमेंट, कैलगरी पब्लिक लाइब्रेरी, कनाडा

पर्यावरण अर्थशास्त्र: सिद्धान्त एवं अनुप्रयोग पर्यावरण अर्थशास्त्र पर विस्तृत पुस्तक है, जिसमें सामूहिक कार्रवाई, पर्यावरण नीति और प्रबंधन के सिद्धांतों पर विशेष ध्यान दिया गया है।
सिद्धांत एवं प्रयोग के संतुलित सम्मिश्रण से तैयार यह पुस्तक, पर्यावरण अर्थशास्त्र की मूलभूत अवधारणा, सिद्धांतों, साधन एवं तकनीकों की रूपरेखा प्रस्तुत करती है, जो न केवल पर्यावरण संबंधी समस्याओं के मूल कारण का पता लगाने और व्यावहारिक समाधानों की पहचान करने में पाठकों को सक्षम बनाती है, बल्कि यह पर्यावरण नीति एवं प्रबंधन रणनीतियों का खाका तैयार करने में भी मदद करती है।
 
इस पुस्तक में शामिल है:
 
• अवधारणाओं, विचारों एवं सिद्धान्तों का अभिनव संकलन;
 
• सरल, बोधगम्य भाषा और शैली में प्रस्तुति;
 
• वास्तविक जीवन की परिस्थितियों पर आधारित उदाहरण एवं दृष्टांत;
 
• ग्लोबल वॉर्मिंग, अम्ल वर्षा और ओज़ोन परत के अवक्षय सहित विभिन्न पर्यावरणीय समस्याओं पर नवीनतम अनुसंधानों के आंकड़े; तथा
 
• पर्यावरण नीति और प्रबंधन पर विशेष ध्यान
 
यह पुस्तक भारत में छात्रों, शिक्षकों, शोधकर्ताओं, पर्यावरण प्रबंधकों और नीति निर्माताओं की आवश्यकता के अनुरूप है।
 

कटार सिंह

प्रोफेसर कटार सिंह संम्प्रति इंडिया नेचुरल रिसोर्सेस इकोनॉमिक्स एंड मैनेजमेंट (इनरेम) फाउण्डेशन आणन्द के मानद (संस्थापक) अध्यक्ष हैं, जो कि प्राकृतिक संसाधन अर्थशास्त्र एवं पर्यावरण प्रबन्धन में शिक्षण, प्रशिक्षण एवं अनुसन्धान को बढ़ावा देने तथा प्राकृतिक संसाधन प्रबन्धन की नीतियों एवं कार्यक्रमों को बेहतर करने के लिए प्रतिबद्ध एक गैर-सरकारी अकादमि ... अधिक पढ़ें

अनिल शिशोदिया

अनिल शिशोदिया वर्तमान में कैलगरी पब्लिक लाइब्रेरी, कैलगरी, कनाडा में सूचना/संदर्भ सेवा विभाग में कार्यरत हैं। आप पूर्व में स्नातकोत्तर अर्थशास्त्र विभाग, सरदार पटेल विश्वविद्यालय (एसपीयू), वल्लभ विद्यानगर, गुजरात में वरिष्ठ व्याख्याता थे। आप अगस्त 1999 से मई 2000 तक कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी, फोर्ट कॉलिन्स, संयुक्त राज्य अमेरिका में पर्यावरणीय अर् ... अधिक पढ़ें

Also available in:

PURCHASING OPTIONS

For shipping anywhere outside India
write to customerservicebooks@sagepub.in