Loading...
Image
Image
View Back Cover

प्राचीन भारत की अवधारणा

धर्म, राजनीति एवं पुरातत्त्व पर निबंध

  • उपिंदर सिंह - अशोक विश्वविद्यालय (सोनीपत) के इतिहास विभाग में प्रोफेसर हैं।

प्राचीन भारत से संबंधित विचारों एवं दृष्टिकोणों के विवेचन में एक अहम योगदान

यह पुस्तक प्राचीन भारतीय इतिहास लेखन से जुड़े कुछ अत्यंत महत्त्वपूर्ण विषयों, विवादों एवं पद्धतियों पर विचार प्रस्तुत करती है।

पुस्तक विषयवस्तु के आधार पर विभाजित है। इसके प्रथम खंड में अभिलेखों एवं पुरावशेषों का गहन विश्लेषण करते हुए धार्मिक तथा क्षेत्रीय प्रक्रियाओं पर विचार प्रस्तुत किया गया है। दूसरा खंड विस्तृत रूप से अभिलेखागारों से प्राप्त सामग्री पर आधारित है। इसमें औपनिवेशिक तथा उत्तर-औपनिवेशिक कालों में प्राचीन स्थलों की खोज, उनकी व्याख्या तथा पुनर्कल्पना के साथ ही, भारतीय पुरातत्त्व के उद्भव पर विचार करते हुए प्राचीन और आधुनिक भारत के बीच की कड़ी को जोड़ा गया है। तीसरे खंड में ग्रंथों एवं अभिलेखों में प्रकट राजनीतिक विचारों के प्रति एक संवेदनशील परंतु आलोचनात्मक दृष्टिकोण के साथ ऐतिहासीकरण करते हुए प्राचीन भारत के बौद्धिक परिदृश्य के पुनर्निर्माण के महत्त्व को रेखांकित किया गया है। अंतिम खंड में एक बृहत्तर एशियाई ढांचे के अंदर प्राचीन भारत को स्थापित करने का सशक्त रूप से प्रयास किया गया है।

 

  • भूमिका

खंड एक: धर्म और क्षेत्र

  • सांची: एक प्राचीन बौद्ध संस्था के संरक्षण का इतिहास
  • नागार्जुनकोंडा: विजयपुरी में बौद्ध धर्म
  • मथुरा के आरंभिक ऐतिहासिक संप्रदाय और तीर्थ (ल.200 सा.सं. पू.-200 सा.सं.)
  • पूर्व मध्यकालीन ओडिशा: तथ्य और विवाद

खंड दो: पुरातत्त्वविद और प्राचीन स्थलों का आधुनिक इतिहास

  • उन्नीसवीं सदी के भारत में पुरातत्त्वविद और वास्तुशिल्पशास्त्री
  • अमरावती: महाचैत्य का विखंडन (1797–1886)
  • बौद्ध धर्म, पुरातत्त्व और राष्ट्र: नागार्जुनकोंडा (1926–2006)
  • निर्वासन और वापसी: आधुनिक भारत में बौद्ध धर्म एवं बौद्ध स्थलों का पुनराविष्कार

खंड तीन: राजनीतिक विचारों एवं व्यवहार का संगम

  • राजसत्ता एवं स्वयं पर शासन: अशोक के अभिलेखों में राजनीतिक दर्शन और व्यवहार
  • कामंदक के नीतिसार में राजनीति, हिंसा और युद्ध
  • एक कवि की शक्ति: कालिदास के रघुवंश में राजत्व, साम्राज्य और युद्ध

खंड चार: भारत से बाहर एशिया का दृश्यपटल

  • अन्य देशों से उपहार: भारत में दक्षिणपूर्व एशियाई अनुदान
  • राजनीति, श्रद्धा और संरक्षण: बोधगया के साथ बर्मा के संबंध
उपिंदर सिंह

उपिंदर सिंह अशोक विश्वविद्यालय (सोनीपत) के इतिहास विभाग में प्रोफेसर अधिक पढ़ें

Also available in:

PURCHASING OPTIONS

For shipping anywhere outside India
write to customerservicebooks@sagepub.in