Loading...
Image
Image
View Back Cover

मीडिया कानून और आचार संहिता

  • शालिनी जोशी - हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के मीडिया अध्ययन विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं।

एक लोकतांत्रिक व्यवस्था में नागरिक और संस्थागत स्वतंत्रताओं को बनाए रखने के लिये मीडिया की विश्वसनीयता वर्तमान में गंभीर चर्चा का विषय है। ऐसे में मीडियाकर्मियों से उम्मीद की जाती है कि वे अपने कामकाज में पेशेवर बने रहें और नैतिक मानदंडों का पालन करें। यह चिंता की बात है कि बढ़ते कॉरपोरेटीकरण, मीडिया पूंजीवाद और सत्ता राजनीति के दबावों के साथ ही निरंकुशताओं और प्रलोभनों से प्रभावित, डरे-सहमे या दबावग्रस्त मीडिया में नैतिक मानकों का अनुसरण, ज़िम्मेदारी का भाव और स्व-अंकुश अब दुर्लभ हुआ जाता है लेकिन सत्य यह भी है कि कठिन और बुरे हालात जवाबदेहियों और अभिव्यक्तियों के लिए निर्णायक भी होते हैं। इस पुस्तक में बताया गया है कि मीडियाकर्मी अपनी कमियों और दुश्वारियों का हल खुद तलाशें और आचार संहिता के पालन से न हिचकें। ज़रूरी है कि मीडिया प्रशासन, मीडिया प्रबंधन और संपादकीय विभाग को संवैधानिक और कानूनी सीमाओं तथा आचार-संहिता का प्रशिक्षण दिया जाए और उनमें मीडिया के दायित्व की समझ विकसित की जाए। प्रस्तुत पुस्तक इस समझ के निर्माण और विस्तार में सहायक होगी।

  • प्रस्तावना शिवप्रसाद जोशी द्वारा
  • भूमिका
  • आभार
  • पत्रकारिता : पेशा और इसकी जवाबदेही
  • विचार और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और प्रेस की आज़ादी
  • मूल अधिकार और नीति : निर्देशक तत्त्व
  • संसदीय विशेषाधिकार
  • प्रेस कानूनों का इतिहास
  • वर्किंग जर्नलिस्ट्स एक्ट 1955
  • प्रेस आयोग और प्रेस परिषद्
  • मानहानि कानून और अदालत की अवमानना
  • निजता का अधिकार
  • सूचना का अधिकार
  • मीडिया से संबंधित महत्त्वपूर्ण कानून
  • सिनेमा से जुड़े कानून
  • मीडिया एथिक्स : अवधारणा और दर्शन
  • मीडिया की आचार संहिताएं
  • पत्रकारीय एथिक्स : प्रमुख मुद्दे और सवाल
  • मीडिया नियमन : विधि और व्यवस्थाएं
  • अनुलग्नक : अभिव्यक्ति की आज़ादी बनाम राजद्रोह
  • संदर्भ ग्रंथ सूची